स्वच्छ भारत स्वस्थ भारत निबंध हिंदी में 500 Words – Swachh Bharat Essay In Hindi

0
119
स्वच्छ भारत स्वस्थ भारत निबंध - swachh bharat essay

Swachh Bharat Essay In Hindi

यह हम जानते हैं कि 2 अक्टूबर को हमारे राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का जन्म हुआ था। इस युगपुरुष ने भारत सहित पूरे विश्व को मानवता की राह दिखाई।

Swachh Bharat Essay In Hindi 

हमारे देश में प्रत्येक वर्ष गांधी जी का जन्मदिन एक राष्ट्रीय पर्व के रूप में मनाया जाता है, वर्ष 2014 में हमारे देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने 2 अक्टूबर को सत सम्मान गांधी जी को याद किया, और ‘स्वच्छ भारत अभियान’ की शुरुआत की। जिसमें आम लोगों ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया।

स्वच्छ भारत अभियान का आरंभ है लक्ष्य

स्वच्छ भारत अभियान’ एक राष्ट्री-स्तरीय अभियान है। राष्ट्रीय पिता गांधी जी हमेशा स्वच्छ भारत का सपना देखते थे, वह चाहते थे कि हमारा देश भी साफ सुथरा रहे। गांधीजी की 145वी जयंती के अवसर पर माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने इस अभियान के आरंभ की घोषणा की, तथा प्रधानमंत्री जी ने 2 अक्टूबर के दिन सर्वप्रथम गांधी जी को राजघाट पर श्रद्धांजलि अर्पित की और फिर नई दिल्ली में स्थित वाल्मीकि बस्ती में जाकर झाड़ू लगाई।

इसके बाद, मोदी ने जनपद जाकर इस अभियान की शुरुआत की और सभी राष्ट्रपतियों से स्वच्छ भारत अभियान में भाग लेने और इसे सफल बनाने की अपील की, इस अवसर पर उन्होंने लगभग 40 मिनट का भाषण दिया और स्वच्छता के प्रति लोगों को जागरूक करने का प्रयास किया। उन्होंने कहा गांधीजी ने आजादी से पहले नारा दिया था। ‘क्लीन इंडिया, क्लीन इंडिया’।

आजादी की लड़ाई में उनका साथ देकर देशवासियों ने ‘क्विट इंडिया’ कैसा अपने को तो साकार कर दिया, लेकिन अभी उनका ‘क्लीन इंडिया’ का सपना अधूरा ही है। अब समय आ गया है कि हम सवा सौ करोड़ भारतीय अपनी मातृभूमि को स्वच्छ बनाने का प्रण करें। इस अभियान के प्रति जनसाधारण को जागरूक करने के लिए सरकार समाचार पत्रों विज्ञापनों आदि के अतिरिक्त सोशल मीडिया का उपयोग कर रही है।

वर्तमान समय में स्वच्छता को लेकर भारत की स्थिति

केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री की ‘स्वच्छ भारत अभियान’ या ‘गंदगी मुक्त भारत’ की संकल्पना अच्छी है तथा इस दिशा में उनकी ओर से किए गए आरंभिक प्रयास भी सराहनीय है, पहले पूरी दुनिया में भारत की छवि एक गंदे देश की है।

कुछ वर्ष पहले ही हमारे पड़ोसी देश चीन के कई ब्लागों पर गंगा मैं तैरती लाशों और भारतीय सड़कों पर कूड़े के ढेर सारी तस्वीर चाहिए रही, आज भारत के कई बड़े-बड़े शहर स्वच्छता में ऐसे हो गए हैं कि जहां आपको ढूंढने पर भी कचरा या गंदगी कि नहीं मिलेगी, जिसका उदाहरण है भारत के मध्य प्रदेश राज्य का सबसे बड़ा शहर इंदौर है जो कि लगातार पांच वर्षों से स्वच्छ भारत का खिताब जीत रहा है।

स्वच्छता का महत्व

यह सभी बातें और तथ्य हमें यहां सोचने पर मजबूर करते हैं कि हम भारतीयों साफ-सफाई के मामले में भी पिछड़े हुए क्यों हैं?बल्कि हम उस समृद्धि और गौरवशाली भारतीय संस्कृति के अनुयाई है इसका मुख्य उद्देश्य सदा ‘पवित्रता’ और ‘शुद्धि’ रहा है, यह सही है कि चरित्र की शुद्धि और पवित्रता बहुत आवश्यक है, लेकिन बाहर की सफाई भी उतनी ही आवश्यक है।

स्वच्छ परिवेश का प्रतिकूल प्रभाव हमारे मन-मस्तिष्क पर पड़ता है, उसी प्रकार एक स्वच्छ और सुंदर व्यक्तित्व का विकास भी स्वच्छ और पवित्र परिवेश में ही संभव है। अतः अंत: करण की शक्ति का मार्ग बाहरी जगत की शुद्धि और स्वच्छता से होकर ही गुजरता है।

यह जरूर पढ़े –

उपसंहार – Swachh Bharat Essay In Hindi

स्वच्छता समान रूप से सभी की नैतिक जिम्मेदारी है और वर्तमान समय में यहां हमारी सबसे बड़ी आवश्यकता है। हमें अपने दैनिक जीवन में तो सफाई को एक मुहिम की तरह शामिल करने की जरूरत है ही, साथ ही हमें इसे एक बड़े स्तर पर भी देखने की जरूरत है।

अगर हमे अपने देश को स्वच्छ बनाना है, तो हम सभी लोगों को मिलकर अपने देश को स्वच्छ बनाना होगा, और साफ़ सफाई को अपनाना होगा, और जो हमारे आस-पास गन्दगी फैला रहे है, हमे उन्हें रोकना होगा।

तो ये था Swachh Bharat Abhiyan essay in Hindi, आशा करते है ये आपको पसंद जरूर आया होगा, अच्छा लगा हो तो शेयर जरूर करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here