समय का सदुपयोग कैसे करें? Samay Ka Sadupyog Kaise Kare(Time)

0
67
Samay ka Sadupyog Kaise Kare

समय का सदुपयोग कैसे करें

हम सबके जीवन में समय (Time) सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है, इसलिए समय का सदुपयोग करना अत्यंत आवश्यक है(Samay Ka Sadupyog)।

आज हम आपको बताएँगे की आप कैसे अपने समय का प्रबंधन(Samay Ka Prabandhan) कर सकते हैं? और आप अपने समय को बर्बाद होने से कैसे बचा सकते हैं?

अगर आप नीचे दिये गये इन सभी बातों का पालन करते हो तो आप अपना कई सारा समय बर्बाद होने से बचा सकते हैं?, और कई लोगों को इनके द्वारा फायदा भी हुआ है, अच्छे से समझने के लिए इसे पूरा जरूर पढ़े।

समय का महत्व – Importance Of Time

मनुष्य के जीवन में ‘समय‘ सबसे महत्वपूर्ण पूंजी है, लेकिन यदि व्यवहारिक रूप से देखे तो अधिकांश मनुष्य ‘समय‘ कि सबसे ज्यादा उपेक्षा/तिरस्कार (Time Waste) करते देखे जा सकते हैं।

जीवन में सफलता प्राप्त करने हेतु समय का सही सदुपयोग (Samay Ka Sadupyog) बहुत आवश्यक है।

आपने अपने जीवन में कभी अपने आसपास के लोगों को, या किसी मित्र, या परिवार जनों में से, किसी ना किसी को समय नहीं मिलने पर रोते हुए देखा होगा, अर्थात उनका कुछ क्षण में बना बनाया काम खराब हो जाता है।

समय तो सबके पास 1 दिन में 24 घंटे ही रहते है। फिर क्यों कुछ लोग उस 24 घंटे में कुछ बड़ा कार्य कर जाते हैं, और कुछ लोग बैठे-बैठाएं रह जाते हैं

Samay Prabandhan Kese Kare -समय प्रबंधन

समय प्रबंधन इस समय नए दौर से गुजर रहा है। कुछ विशेषज्ञ तो यह तक कहने लगे है कि समय प्रबंधन बहुत ही अनुपयुक्त नामकरण है

उनका मानना है कि- ‘प्रबंधन समय का नहीं बल्कि अपना स्वयं का करना है’

कामयाबी का प्रथम Rule समय प्रबंधन है।

आपके पास कामयाब होने के सभी गुण होने के बाद भी यदि आपका समय प्रबंधन कामयाब नहीं है, तो आपकी कामयाबी संदेहास्पद है।

आप दिन में कितने घंटे कार्य करते हैं, यह उतना महत्वपूर्ण नहीं है, महत्वपूर्ण यहां है कि आप उन घंटों में कौन सा कार्य करते हैं?

महत्वपूर्ण, उपयोगी एवं आवश्यक कार्य आपको पहले करने होंगे, वरना आप उन्हें बाद में कभी नहीं कर पाओगे।

अतः बड़े पत्थर पहले डालने होते हैं, छोटे टुकड़े तो बाद में भी डाल सकते हैं।

यदि आपने अपना समय अनावश्यक एवं अनुपयोगी कार्य में लगा दिया है,

तो आपके पास उपयोगी कार्य के लिए कोई समय नहीं बच पाएगा।

आपका आवश्यक कार्य किसी अनावश्यक कार्य की दया पर क्यों आश्रित रहे?

हमें अपने जीवन में बड़े पत्थरों को पहचानना चाहिए।

बड़े पत्थर हमारी प्राथमिकताएं हैं। यह हमारे लक्ष्य पर निर्भर करती है।‌

बिना लक्ष्य के हम अपनी प्राथमिकताओं को निर्धारित नहीं कर सकते,

आपकी सफलता लक्ष्य के साथ जुड़ी हुई है, आपका लक्ष्य सुनिश्चित होना चाहिए,

जिनका लक्ष्य निश्चित होता है, वही अपनी प्राथमिकताओं को जान सकता है।

जो अपने बड़े पत्थर पहले डालता है, उनके पास समय की कोई कमी नहीं रह जाती।

यह जरुरु पढ़े

समय का सदुपयोग (Time Management) करने के कुछ तरीके एवं उपाय-

#1. कार्य का बटवारा:-

सबसे पहले ये देखे की हर रोज आपका समय किन-किन कार्यों में कितना कितना खर्च होता है।

आपका सबसे ज्यादा समय किन-किन लोगों तथा किन किन मुद्दों पर खर्च होता है।

  • मित्र (friend’s):-

यदि आपका समय अपने मित्र या ऑफिस के साथियों के साथ फालतू की बातों में बर्बाद हो रहा है,

तो उन्हें ‘न’ कहने की हिम्मत करें।

आप उन्हें अपनी जरूरतों, आवश्यकताओं के बारे में उन्हें बता सकते हैं, लेकिन दिन भर उनके साथ बैठकर अपने समय को हाथ से जाने ना दें।

  •  ऑफिस में आने वाले ग्राहक:-

आप अपने कार्य को डेलीगेट करें। अधिकांश ग्राहक अपने नीचे के स्तर पर ही निपट जाए,

इस तरह से कार्य का डेलिगेशन किया जाए। आपके पास अतिआवश्यक ग्राहक की आएंगे, यह सुनिश्चित करें।

  •  मोबाइल/टेलीफोन में बहुत सारा समय व्यय होता है:-

अब देख लें यदि कॉल करने वाला कोई महत्वपूर्ण व्यक्ति है, तो उसी समय बात कर ले,

लेकिन जो व्यक्ति फालतू की बातों से आपका भी समय खराब करेगा, और खुद का भी,

अन्यथा आप उनसे एक बार समय निर्धारित करके बात कर ले।

और फालतू की चीजों में समय बर्बाद ना करें, मोबाइल में इंटरनेट का हमेशा सदुपयोग करें।

  •  ई-मेल्स (emails):-

कंप्यूटर पर email popup को off रखिए।

ई-मेल देखने हेतु भी, एक या दो बार समय fix कर ले।

ऐसा करने से आपको ईमेल्स के कारण, कार्य में जो भी विघ्न होता है, वो नहीं होगा एवं समय की बचत होगी।

#2. समय सीमा निर्धारण:-

हर काम की समय सीमा निर्धारित ( Fix ) करे, आप जो भी काम करते हो उनको पूरा करने के लिए आप अपने आप को एक निश्चित समय दो जिससे कि आपको पता हो कि आपके पास उस कार्य को करने के लिए कितना समय है।

कभी कभी हम कार्यों के लिए कोई समय सीमा(Deadline) निर्धारित नहीं करते और देखते ही देखते सारा वक्त निकल जाता है और हम उस कार्य को कर ही नहीं पाते।

जिन कार्यों हेतु समय सीमा निर्धारित की जा सकती है, उसे अवश्य करें।

अपने नीचे के अधिकारी या कर्मचारी, जिनसे कार्य कराने की जिम्मेदारी आप पर है,

अपने कार्य की समय सीमा निर्धारण करने से उन पर नियंत्रण करने में आसानी रहती है। स्वयं भी समय सीमा का ध्यान रखें।

यदि आपने ई-मेल हैतू 1 घंटे का समय तय किया है तो उस समय का पालन करें।(Samay Ka Sadupyog)

यह जरुरु पढ़ेजिंदगी बदल देने वाले Thoughts हिंदी में।

#3. आवश्यक उपकरण पास में रखें:-

आपको कार्य करते समय जिन उपकरणों/चीजों की आवश्यकता है, वहां आपके आस-पास ही होनी चाहिए,

जिससे आपका समय आने जाने में व्यय ना हो; जैसे कंप्यूटर, फैक्स मशीन, प्रिंटर, मोबाइल या टेलीफोन आदि हाथ के नीचे ही होने चाहिए।

– विश्राम हेतु समय(Time For Rest):-

आप कितने भी व्यस्त हो, लगातार कार्य करते रहने से आपकी क्षमता या ऊर्जा कम होती जाती है।

अतः आप कार्य के बीच में थोड़ा सा समय अपने अल्प विश्राम (break) हेतु अवश्य निकालें,

यह अल्प विश्राम आपकी उर्जा एवं क्षमता को पुनः पुनभरण हेतु बहुत उपयोगी है।

पश्चिमी देशों में समय प्रबंधन या (time management) को बहुत महत्व दिया जाता है।

उनकी कार्यप्रणाली एक कार्यशैली की तरह विकसित हो गई है वे हर प्रक्रिया (process) हेतु एक ऐसी कार्य विधि (methodology)का प्रयोग करते है, जिनसे उस प्रक्रिया में कम से कम समय लगे ।

वहां यह भी सिखाया जाता है कि अपनी दिनचर्या को किस तरह से बनाना चाहिए,

जिससे समय का अधिकतम सदुपयोग हो सके समय धन से भी किमती है,

यह बात वहां के निवासियों के मन में अच्छी तरह बसी हुई है, तभी वहां के लोग आज भी हम से आगे हैं।

#4. एक समय पर एक कार्य करें:-

एक समय में एक ही कार्य हाथ में लेने से आप उस कार्य को कुशलता एवं पूर्ण गुणवत्ता से उस कार्य को शीघ्रतिशीघ्र पूर्ण कर सकते हैं, आपका पूरा ध्यान उसी एक कार्य को करने में होगा।

वस्तुतः हमारे पास समय तो है, पर समय प्रबंधन का अभाव है।

समय की अव्यवस्था को दूर करें, समय का उपयोग प्राथमिकताओं के आधार पर करें, तो आपके पास समय ही समय होगा।

आज के इस प्रतिस्पर्धात्मक युग में सफलता की बुलंदियों को छूना सरल कार्य नहीं है।

निश्चित रूप से सफलता प्राप्ति में समय प्रबंधन की आम भूमिका है।

Conclusion(Samay Ka Sadupyog):-  समय का सदुपयोग

  • कार्य का बटवारा
  • समय सीमा निर्धारण
  • आवश्यक उपकरण पास में रखें
  • एक समय पर एक कार्य करें

आपका समय आज के इस वक़्त में आपका सबसे कीमती रतन है, इसका इस्तेमाल सोच समझ कर सही जगह पर करे, और सही कार्यो पर, और सही इंसान पर करे, यह समय बड़ा अनमोल है, ये लौटकर कभी नहीं आएगा।

अगर आप भी इन नियमो को अपने जीवन में अपनाते है, तो आप भी अपना कई सारा समय बचा सकते है अर्थातः समय का सदुपयोग कर सकते है।

अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगी हो, तो अपने दोस्तो के साथ शेयर जरूर करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here