पॉलिथीन मुक्त भारत पर निबंध – Polythene Free India Essay Hindi

पॉलिथीन पर निबंध इन हिंदी

हमे अगर अपने वातावरण को बचाना है तो हमे Polythene Free India बनाना ही होगा।

आज हम जब भी कुछ खरीदने के लिए बाजार जातें हैं, तो किसी भी दुकान से जब हम कुछ सामान खरीदते हैं तो दुकानदार हमे समान रखने के लिए प्लास्टिक बैग (पॉलिथिन या थैली) देते है।

प्लास्टिक बैग से होने वाले नुकसान को जानते हुए भी दुकानदार इसका उपयोग करते है, क्योंकि ये सस्ते और इफाइती होते है, इस कारण प्लास्टिक बैग का उपयोग पूरी दुनिया में बहुत बड़े पैमाने पर किया जाता है। ये मनुष्य के साथ साथ जानवरो के लिए भी एक गंभीर समस्या है।

आज हम आपको Trendy Hindi के माध्यम से बताने जा रहे है, प्लास्टिक बैग बेन होना क्यों जरूरी है?, इससे होने वाले नुकसान, इससे कैसे बचा जा सकता हैं, आदि।

पॉलिथीन मुक्त भारत पर निबंध – Polythene Free India Essay Hindi

प्रस्तावना

प्लास्टिक बैग का प्रयोग विभिन्न प्रकार से लगातार किया जा रहा है, जिन पॉलिथिन का हम रोजाना उपयोग कर रहे है, वो हमारी पृथ्वी के लिए बहुत बड़ा खतरा पैदा कर रही है, पॉलिथिन हमारी प्रकृति को बहुत बड़े पैमाने पर प्रदूषित कर रही है, क्योंकि प्लास्टिक गैर बायोडिग्रेडेबल होती है इसलिए ये हजारों सालो तक नष्ट नहीं होती है।

प्लास्टिक दुनिया का सबसे बड़ा गंभीर मुद्दा है, कई सारे देशों में प्लास्टिक पूरी तरह बैन है, हमारे देश में भी इसे कई बार बैन किया जा चुका है, फिर भी इसका उपयोग निरंतर किया जा रहा है।

प्लास्टिक का पर्यावरण पर प्रभाव

प्लास्टिक बहुत बड़े पैमाने पर हमारे पर्यावरण को दूषित कर रहा है, इससे मृदा प्रदूषण, जल प्रदूषण, और वायु प्रदुषण होता है –

  •  मृदा प्रदूषण-

प्लास्टिक की थैली को लोग कई बार इधर उधर फेंक देते है, ये पॉलीथिन अगर खेतो में जाती है तो क्योंकि ये सड़ती या गलती नहीं है, इस कारण ये लम्बे समय तक वहा मिट्टी में पड़ी रहती है, प्लास्टिक में मोजूद रसायन मिट्टी को दूषित कर देते है, और उस जगह को अनउपजाऊ बनाते है, जिससे खेती विकसित नहीं होती है।

  • जल प्रदूषण-

जब लोग तीर्थ स्थलों में घूमने के लिए जाते हैं तो यहां वहां पॉलीथिन को फेंक देते है, जिससे प्लास्टिक से उत्पन कचरा जल के स्त्रोतों में चला जाता है, जैसे नदी, झील, समुंद्र आदि, और यही पानी हमे पीने के लिए दिया जाता है, प्लास्टिक का कचरा पानी को जहरीला बना देता है, जिससे हमारे स्वास्थ को काफी नुकसान होता है।

  • वायु प्रदुषण-

अगर आप सोचते है की प्लास्टिक से बने सामानों को जलाकर नष्ट किया जा सकता है, तो ऐसा करने से हमारा वायु मंडल और भी दूषित हो जाएगा, प्लास्टिक ज्यादातर पॉली-प्रोपाइलीन से बनी होती है, जो की पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस से उत्पन्न होती है, ये गैसे गैर-नवनीकरण जीवास्म ईधन है।

ये गैसे हमारे वायुमंडल में फैलती है तो हमारी स्वस्थ को भी काफी नुकसान पहुंचाती है, इन गैसों को नष्ट करने पर ये गैसे ग्रीन हाउस गैसों का निर्माण करती है, जो की Global Warning का प्रमुख कारण है।

हम कई बार बचा कूचा खाने का सामान पॉलिथीन में रखकर कूड़े में फेंक देते है, जिसकी वजह से जानवर खाने के साथ पॉलिथिन को भी निगल जाते है, जिनकी वजह से उनकी मृत्यु तक हो जाती है,

प्लास्टिक के उपयोग को कैसे रोका जाय?

  • सरकार से अपील-

हमे सरकार से अपील करना चाहिए की प्लास्टिक को देश में पूरी तरह बैन करना चाहिए, जो लोग प्लास्टिक का व्यापार कर रहे हैं, उन पर कड़ी कार्यवाही होनी चाहिए, प्लास्टिक बैन होने के बाद भी अगर कोई पॉलिथिन का उपयोग करता है, तो उससे दंड वसूल करना चाहिए।

  • प्लास्टिक उत्पादन पर नियंत्रण-

क्योंकि पूरी दुनिया भर में लगातार प्लास्टिक का उपयोग किया जा रहा है, इस कारण इसका उत्पादन भी तेजी से हो रहा है, अगर इसके उत्पादन को कम करना है तो हमे प्लास्टिक से बनी हर वस्तु को त्यागना होगा।

  • जागरूकता पैदा करना-

कई सारे लोगो को अभी पता ही नही है, की प्लास्टिक से क्या-क्या नुकसान होते है, टीवी, समाचार, या रेडियो के जरिए सरकार को जागरूकता पैदा करनी चाहिए की Plastic हमारे जीवन के लिए कितना नुकसानदायक है। या अगर आप एक स्टूडेंट है तो आप अपने स्कूल या कॉलेज की मदद लेकर अपने शहर में स्कूल यूनियन के साथ जाकर लोगो को इससे किलाफ जागरूक करें।

प्लास्टिक की जगह इन्हे उपयोग करें

लोग प्लास्टिक के समान इसलिए पसंद करते है क्योंकि वे मेटल के बने समान से सस्ते होते है, लेकिन प्लास्टिक से होने वाले दुष्प्रभाव को हमे जानना जरूरी है, ओर हम इससे कैसे बच सकते है, इसके बारे में जानना भी बहुत जरूरी है।

  • कपड़े की थैली या पेपर बैग का उपयोग करें-

अगर आप बाजार सब्जी या कुछ सामान खरीदने जाते हैं तो दुकानदार आपको सामान रखने के लिए पॉलिथिन देता है, आप उस पॉलिथिन का उपयोग न करके अपने घर से एक कपड़े की थैली या पेपर से बनी थैली बाजार लेकर जाएं और इनका उपयोग करें।

  • प्लास्टिक बोतल से बचे-

जब हम कई बाहर जाते है, तो दुकान से पानी की बोतल खरीदते है, ओर उस पानी को पीते है, क्योंकि वो पानी कई दिनों तक उस प्लास्टिक बोतल में भरा हुआ होता है, इस कारण उसमे कई सारे कीटाणु आ जाते है, जो हमारे स्वास्थ को खराब करता है, इस कारण हमे प्लास्टिक की बोतले का उपयोग न करकर मेटल की बोतल का उपयोग करना चाहिए।

पॉलिथिन ओर बोतलों के अलावा हमारे घर में हम कई सारी प्लास्टिक की सामग्री का उपयोग करते है, जैसे – प्लास्टिक के दरवाजे, रसोई के समान, फर्नीचर, हर तरह की पैकिंग के सामान, प्लास्टिक की टंकी, ओर कई सारी छोटी छोटी सामग्री इनकी जगह हमे मेटल या लकड़ी या पेपर से बनी वस्तुओं का उपयोग करना चाहिए।

यह जरूर पढ़े –

उपसंहार – Plastic Mukt Bharat Nibandh in Hindi

भारत सरकार ने कई दफा कई राज्यों में प्लास्टिक के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगाया गया है, फिर भी लोग इसका निरंतर इस्तमाल कर रहे है, क्योंकि प्लास्टिक के समान बाजार में बहुत आसानी से उपलब्ध हो जाते है, ओर ये सस्ते भी होते है।

प्लास्टिक से अगर बचना है तो हमे इसका पूरी तरह से बहिष्कार करना होगा, ओर लोगो में इसकी जागरूकता फैलानी होगी, जिस प्रकार प्लास्टिक हमारे पर्यावरण को नुकसान पहुंचा रहा है, इसके खिलाब सक्त कदम उठाने की अवश्यकता है।

तो ये था पॉलिथीन/प्लास्टिक बैग पर निबंध, आशा करते है ये आपको पसंद जरूर आया होगा, अच्छा लगा हो तो शेयर जरूर करे।

Spread the love

Leave a Comment