Diwali Paragraph In Hindi – Paragraph On Diwali In Hindi

0
193
Paragraph On Diwali In Hindi

Short Paragraph On Diwali In Hindi, New Paragraph On Diwali In Hindi

भारत त्योहारों के रूप में जाने जाना वाला देश है। दीपावली या दीवाली यहाँ मनाये जाने वाले त्योहारों में से सबसे प्रसिद्ध त्योहार है। इस त्योहार को प्रतिवर्ष कार्तिक माह की अमावस्या को मनाया जाता है।

Paragraph On Diwali In Hindi

Diwali Paragraph 1

दीपावली का त्यौहार भारत में और अन्य कई देशों में बहुत ही धूम-धाम से मनाया जाता हैं। दीपावली को दीप का त्यौहार भी कहा जाता हैं। दीपावली का त्यौहार भारत के प्रमुख त्यौहारों में से एक हैं। जिसे भारत में बहुत ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता हैं। कहा जाता है कि इस दिन भगवान श्री-राम ने रावण को पराजित करके और अपने 14 वर्ष के वनवास को पूरा करके अयोध्या वापस लौटे थे। भगवान राम के आने की खुशी में वहां के सभी लोगो ने इस दिन को त्योहार की तरह मनाया था, जगह जगह दिए जलाए थे, अयोध्या नगरी इस दिन रोशनी से जगमगा उठी थी, तब से लेकर आज तक इस दिन को दीपावली के रूप में मनाया जाता हैं, दीपावली के त्योहार को, वैसे तो सभी मनाते है लेकिन इस दिन बच्चो में अलग ही उत्साह होता है। इस त्योहार को बच्चे, बूढ़े और बड़े हर कोई बहुत ही खुशी और धूमधाम से मनाते हैं। इस दिन पूरा भारत रोशनी से जगमगा उठता है. इस दिन लोग पटाखे भी जलाते हैं।

दिवाली का त्योहार सभी लोगों को खुशियाँ देनेवाला त्योहार है । इसे दीपावली भी कहते है। यह त्योहार हर साल अक्टूबर या नवम्बर के महीने में मनाया जाता है। ऐसा कहा जाता है कि, इस दिन भगवान राम चौदह साल का वनवास पूरा करके दिवाली के दिन वापस अयोध्या लौटे थे। इस खुशी पर अयोध्या का हर घर, रास्ता फूलों से, दीयों से सजाया गया था। तब से लेकर अब तक यह त्योहार प्रत्येक वर्ष बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। दिवाली का त्योहार धनतेरस से भाईदूज तक पाँच दिन मनाया जाता है। दिवाली आने पर लोग अपने घर, दुकान, कार्यालय, अपने वाहनों आदि की साफ सफाई करते है।

Diwali Paragraph 2

दीपावली का त्योहार प्रति वर्ष कार्तिक माह की अमावस्या को मनाया जाता है। इस दिन भगवान श्री राम चन्द्र जी 14 साल का वनवास पूरा कर तथा रावण का संहार करके लक्ष्मण जी और माता सीता जी के साथ अयोध्या वापिस आए थे। उनके वापिस आने की खुशी में अयोध्या वासियों ने घरों में दीप जलाए थे। इसलिए दीपावली को ‘दीपों का त्योहार’ भी कहा जाता है। यह त्योहार बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है।

दीपावली का त्योहार पाँच दिनों का त्यौहार है, पहला दिन धनतेरस या धन त्रयोदशी का होता है। इस दिन लोग नए साधन खरीदते है, नए वाहन खरीदते हैं, घर की चीजें खरीदते हैं, इस दिन सोने व चांदी के आभूषण खरीदना शुभ माना जाता है, दूसरा दिन नरक चतुर्दशी, या काली चौदस के रूप में मनाया जाता है। इस दिन सूर्योदय से पूर्व स्नान करने से समस्त पाप समाप्त हो जाते है। तीसरा दिन दीपावली का होता है।

बच्चे और बड़े नए कपड़े पहनते है और एक दूसरे को दीपावली की बधाई देते हैं। रात को लक्ष्मी माता की पूजा की जाती है और उनके स्वागत के लिए दीप जलाए जाते है, घरों में अलग-अलग तरह की मिठाईयाँ बनाई जाति है। बच्चे पटाखे जलाते है, दीपावली के दिन पूरा भारत रोशनी से जगमगा उठता है। चौथा दिन अन्नकूट या गोवर्धन पूजा का होता है, इस दिन किसान अपने गाय, भेस व बैल की पूजा करते हैं। पांचवे दिन को भाई दूज के त्योहार के रूप में मनाया जाता है। भाई दूज को भाई-बहन का एक पवित्र दिन भी माना जाता है। इस दिन भाई अपनी वैवाहिक बहन यह मुंह बोली बहन के यहां भोजन करने के लिए जाते हैं इस दिन बहन अपने भाई को तिलक लगाती है और उसकी लम्बी उम्र की कामना करती है।

Diwali Paragraph 3

दिवाली के दिन लोग अपने नए कार्यों का शुभारंभ करते है, इस दिन को बहुत शुभ माना जाता है, लोग इस दिन सोने-चांदी के गहने व बर्तन आदि खरीदते हैं, लोग इस दिन नए साधन अपने घर लाते हैं। घर के सभी सदस्य अपने लिए नए कपड़े खरीदते हैं। अपने घरों व दुकानों को सजाते हैं, दिवाली आने पर लोग अपने घर, दुकान, कार्यालय आदि को रंगबिरंगे फूलों से, दीपों से, सुंदर रंगोलियों से सजाते है।

दीपावली के दिन से ही लोग अपने घरों पर दिए जलाते हैं। एक दूसरे को मिठाईयाँ बाटते है, किसान दिवाली में गाय-भैंसों की पूजा करते है। व्यापारी लोग नए खाते लिखते है। लोग देवी लक्ष्मीमाता, देवी सरस्वती माता, और भगवान गणेशजी का पूजन करते है।

दिवाली में ठंड की शुरुआत होती है, हर साल दिवाली आती है और चली जाती है; मगर मन में नयी उमंग भर जाती है। दिवाली सभी को प्यार, एकता, भाईचारा और आनंद का संदेश देती है।

दीपावली का त्यौहार बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक हैं । भारत ही नहीं बल्कि और भी देशों में दीपावली का त्यौहार बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here