ओलंपिक खेल प्रतियोगिता पर निबंध – Olympic Games Essay In Hindi

0
62

ओलंपिक खेल अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रति 4 वर्ष में आयोजित किया जाता है जो विश्व का सबसे बडा खेल महोत्सव माना जाता है। जिसमें, विश्व के लगभग सभी देशों के खिलाड़ी एक जगह एकत्रित होकर इस प्रतियोगिता में हिस्सा लेते है। और सभी खिलाड़ी अपनी-अपनी प्रतिभा दिखाते हैं।

Essay On Olympics In Hindi – Olympics Essay In Hindi

ओलंपिक में जितने वाले प्रत्येक विजेताओं को पदक से सम्मानित किया जाता है। जो खिलाड़ी प्रथम स्थान प्राप्त करता है उसे स्वर्ण पदक से सम्मानित किया जाता है, अतः जो खिलाड़ी द्वितीय स्थान पर आता है उसे रजत पदक तथा जो खिलाड़ी तृतीय स्थान प्राप्त करता है उसे कांस्य पदक से सम्मानित किया जाता है। ओलंपिक में केवल पदक जीतने वाले खिलाड़ी का नाम रोशन नहीं होता है अपितु पूरे राष्ट्र का नाम रोशन होता है।

ओलंपिक का इतिहास काफी पुराना है। सर्वप्रथम 776 ईसवी पूर्व यूनान के एथेंस नगर के ओलंपिया पर्वत की तलहटी मैं खेलों की एक प्रतियोगिता आयोजित की गई थी। बाद में ओलंपिया पर्वत के नाम पर ही इस खेल आयोजन का नाम ओलंपिक पड़ा। समय के साथ-साथ इसकी परंपरा एवं स्वरूप में धीरे-धीरे कई बदलाव होते गए। आज के समय में ओलंपिक सारे विश्व को अपने में समाहित किए हुए हैं। आधुनिक ओलंपिक खेलों के आयोजन का मुख्य श्रेय यूनान निवासी ‘पियरे द कुबर्तिन’ को जाता है, जिनके अथक प्रयास के फलस्वरुप ही आज ओलंपिक का अस्तित्व है।

ओलंपिक का एक झंडा होता है जिसका रंग सफेद है इसमें आपस में जुड़े पांच गोले अंकित है। यह गोले पांच महाद्वीपों का प्रतिनिधित्व करते हैं। उद्घाटन के समय मशाल जलाकर हजारों कबूतरों को आकाश में उड़ाया जाता है, जिसे अंतरराष्ट्रीय सद्भावना एवं शांति का प्रतीक माना जाता है।

आधुनिक ओलंपिक का प्रथम आयोजन सन 1986 में यूनान के एथेंस नगर में ही हुआ था। इसके बाद से ही प्रति 4 वर्ष के अंतराल पर विश्व के बड़े बड़े नगरों में ओलंपिक का आयोजन होता चला आ रहा है। इस बीच केवल दो बार ही अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक प्रतियोगिता में अंतराल आया था, जब प्रथम व द्वितीय विश्व युद्ध के कारण इन खेलों का आयोजन रद्द कर देना पड़ा था।

अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक खेल प्रतियोगिता में खेलों में हार व जीत का विशेष महत्व नहीं होता। महत्त्व होता है अनुशासन भाईचारे और इमानदारी का। 1996 ईस्वी के ओलंपिक में इन्हीं कारणों से भारत को हॉकी में ‘फेयर प्ले एवार्ड’ मिला था। जिस खेल प्रतियोगिता में खेल खेलने के साथ-साथ जितना अधिक अनुशासन, ईमानदारी और बंधुत्व का भाव रहता है, उस खेल को उतना ही उत्कृष्ट माना जाता है। ओलंपिक आयोजन का उदेश्य खेलों के माध्यम से सारे विश्व को एक सूत्र में जोड़ना है।

वस्तुत: ‘वसुदधेव कुटुंबकम’ ही ओलंपिक का नारा है

आज के इस वक्त में ओलंपिक खेल सबसे प्रचलित आयोजित किए जाने वाला खेल है, जिसमे भाग लेने के  लिए कई सारे सालों तक मेहनत करते है। हमारे देश के कई खिलाड़ियों ने ओलंपिक में स्वर्ण पदक हासिल किए है, और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हमारे देश का नाम रोशन किया है।

FAQ (सबसे ज्यादा पूछे जाने वाले सवाल) –

प्रश्न: ओलंपिक खेल कितने वर्षों में आयोजित किया जाता है?
उत्तर: ओलंपिक खेल प्रतियोगिता 4 वर्ष के अंतराल में आयोजित किया जाता है।

प्रश्न: पहला ओलंपिक कहां और कब खेला गया था?
उत्तर: पहला ओलंपिक 776 ईसवी में पूर्व यूनान के एथेंस नगर के ओलंपिया पर्वत की तलहटी पर खेला गया था।

प्रश्न: आधुनिक ओलंपिक का प्रथम आयोजन कब और कहा हुआ था?
उत्तर: आधुनिक ओलंपिक का प्रथम आयोजन सन 1986 में यूनान के एथेंस नगर में ही हुआ था।

प्रश्न: ओलंपिक खेल का श्रेय किसे दिया जाता है?
उत्तर: ओलंपिक खेल का मुख्य श्रेय यूनान निवासी ‘पियरे द कुबर्तिन’ को जाता है।

प्रश्न: ओलंपिक झंडे में पांच गोले किस का प्रतीक है?
उत्तर: ओलंपिक झंडे में पांच गोले 5 महाद्रीपो का प्रतीक है।

प्रश्न: ओलंपिक का झंडा किस रंग का होता है?
उत्तर: ओलंपिक का झंडा सफेद रंग का होता है।

प्रश्न: ओलंपिक प्रतियोगिता में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले खिलाड़ी को कौनसा पदक दिया जाता है?
उत्तर: ओलंपिक प्रतियोगिता में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले खिलाड़ी को स्वर्ण पदक से सम्मानित किया जाता है।

प्रश्न: ओलंपिक प्रतियोगिता में दूसरे स्थान प्राप्त करने वाले खिलाड़ी को कौनसा पदक दिया जाता है?
उत्तर: ओलंपिक प्रतियोगिता में दूसरे स्थान प्राप्त करने वाले खिलाड़ी को रजत पदक से सम्मानित किया जाता है।

प्रश्न: ओलंपिक प्रतियोगिता में तीसरा स्थान प्राप्त करने वाले खिलाड़ी को कौनसा पदक दिया जाता है?
उत्तर: ओलंपिक प्रतियोगिता में तीसरा स्थान प्राप्त करने वाले खिलाड़ी को कांस्य पदक से सम्मानित किया जाता है।

तो ये था ओलंपिक खेल प्रतियोगिता पर निबंध आशा करते है यह आपको पसंद आया होगा। अच्छा लगा हो तो Share जरूर करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here