भारत के 10 सबसे दिलचस्प गाँव – 10 Interesting Villages in India

0
64
10 Interesting Villages in India

Best Villages In India

भारत एक कृषि प्रधान देश है, आज भी हमारे देश की आबादी छोटे छोटे गांवों में बसती है, हमारे देश की 70 प्रतिशत जनसंख्या गांवों में बसती है।

आज हमारे देश में कुल 6,28,221 गांव मौजूद है, और सबसे ज्यादा गांवों वाला राज्य उत्तरप्रदेश है, जहां कुल 1,07,753 गांव है।

आज हम आपको बताने जा रहे है भारत के 10 ऐसे सबसे आदर्श और अनोखे गांवों के बारे में जो अपने आप में सबसे अनोखे है।

भारत के 10 सबसे आदर्श और अनोखे गाँव – 10 Unique Villages In India

#1. Gahmar, Uttar Pradesh, The Biggest Village In India

(गहमर, उत्तरप्रदेश, भारत का सबसे बड़ा गांव)

गहमर गांव भारत के उत्तरप्रदेश राज्य के गाजीपुर जिले में स्थित है, गाजीपुर जिले से 40 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यहां गांव भारत का सबसे बड़ा गांव है।

यहां की कुल जनसंख्या 1,20,000 के करीब है, यहां अधिकांश लोग हिंदी भाषा का प्रयोग करते हैं, इस गांव में दो पोस्ट ऑफिस और एक पंचाहै।

यहां के 12,000 से ज्यादा जवान इंडियन आर्मी में शामिल है, और 14000 से ज्यादा जवान रिटायर हो चुके है।

इस गांव में शहर जैसी कई सारी सुविधाएं मौजूद है जैसे कि हॉस्पिटल, इंटर कॉलेज, स्कूल, डिग्री कॉलेज, टेलीफोन एक्सचेंज, ओर भी कई सारी प्राईवेट शॉप्स है, और कई सारी फेसेलिटी मौजूद हैं।

#2. Shani Shingnapur, Maharastra, India’s Safest Village

शनि शिंगणापुर, भारत का सबसे सुरक्षित गांव

आपने कभी ऐसे गांव के बारे में सुना है, जहां कभी लोग रात में अपने घरों के दरवाजा बंद नहीं करते है, कोई अपने दुकानों में ताला नही लगाता है।

लोग दरवाजे खुले रखकर इतमीनान से सोते है, और आज तक खुले दरवाजे के बावजूत यहां आज तक एक भी बार चोरी नहीं हुई है।

महाराष्ट्र राज्य में स्थित शनि शिंगणापुर गांव में लोग कभी भी अपने घरों के खिड़की दरवाजे बंद नहीं रखते है, यहां के लोगों का मानना है की इस गांव की रक्षा स्वयं भगवान शनिदेव कर रहे है।

शनिदेव की कृपा से यहां आज तक एक भी चोरी नहीं हुई है, यहां तक की यहां की बैंक में भी ताला नहीं लगाया जाता है, इसलिए जगह को भारत की सबसे सुरक्षित जगहों में से एक माना गया है।

#3. Mawlynnong, Meghalaya, Asia Cleanest Village

मोलिनोंग, मेघालय, एशिया का सबसे स्वच्छ गांव

मोलिनोंग भारत का ही नहीं पूरे एशिया का सबसे स्वच्छ गांव है, इस गांव की स्वच्छता और प्राकृतिक सुंदरता को देखकर इस गांव को भगवान का बगीचा भी कहा जाता है।

यहां गांव मेघालय की राजधानी शिलांग और भारत बांग्लादेश की बॉर्डर से 80 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

500 जनसंख्या वाले इस गांव में प्लास्टिक पूरी तरह बेन है, यहां पब्लिक प्लेस, रोड पर थूकना ओर कचरा फेंकना मना है, इस गांव के हर कोने में बांस से बने कूड़ेदान मौजूद है।

यहां के लोग रोजाना अपने गांव को स्वच्छ बनाने के लिए बढ़ चढ़कर हिस्सा लेते हैं। इस गांव ने अपने स्वच्छता के बल पर पूरी दुनिया भर में अपनी एक अलग पहचान बना चुका है।

#4. Punsari, Gujarat, India’s Smart Village

पुंसारी, गुजरात, आदर्श गांव

गुजरात राज्य के साबरकांठा जिले में स्थित पुंसारी गांव भारत का सबसे आदर्श गांव माना जाता हैं।

6 हजार जनसंख्या वाले इस गांव में हर जगह पक्की सड़कें, सुरक्षा के लिए हर जगह सीसीटीवी कैमरे, इंटरनेट के लिए फ्री वाईफाई, गांव का अपना बैंक है, बस सुविधा, इसके अलावा गांव में हर जगह स्पीकर लगे हैं।

गांव में लगभग 125 से ज्यादा स्पीकर लगाए गए हे, अगर सरपंच को कोई महत्वपूर्ण सूचना देनी हैं तो इन स्पीकर के माध्यम से पूरा गांव एक साथ उस सूचना को सुन सकता हैं।

इस गांव को स्मार्ट बनाने का श्रय यहां के सरपंच हिमांशु भाई नरेन्द्र पटेल को जाता है, ये इस गांव के सरपंच 2006 में बने इससे पहले इस गांव में इतना विकास नही था।

आज इस गांव में कुल 5 स्कूल है और हर स्कूल में A.C, CCTV, WI FI, और कंप्यूटर जैसी हर फेसेलिटी मौजूद है, इस गांव में साफ सफाई का भी ध्यान रखा जाता है, इस गांव को आदर्श गांव का अवॉर्ड भी मिल चुका है।

#5. Hiware Bazar, Maharashtra

हिवरे बाजार, महाराष्ट्र

महाराष्ट्र राज्य के अहमदनगर जिले में स्थित यहां गांव हिवरे बाजार एक समय पर इस गांव में कुछ नही था, न बिजली, न पानी, न पक्की सड़कें इस वजह से कई लोग गांव को छोड़कर शहर की और चले गए।

यहां के बिगड़े हालातों को देखते हुऐ यहां के स्थानीय लोगो की कड़ी मेहनत के चलते और कई संघर्ष के बाद इस गांव में आज वो हर सुविधा उपलब्ध है जो एक आदर्श शहर में होती है।

आज गांव में हर तरफ पक्की सड़कें, गांव में पर्याप्त पानी, पर्याप्त मात्रा में बिजली, के साथ प्राइमरी ओर हाई सेकेंडरी स्कूल मोजूद है, यहां के स्कूल में गांव के साथ-साथ आस-पास के कई विद्यार्थी यहां पड़ने आते है।

यहां के लोग स्वच्छता में भी बड़ चढ़कर हिस्सा लेते हैं, यह की ग्राम पंचायत के अनुसार आप एक मच्छर लाइए और 100 रुपए ले जाइए। यहां के लोग अपने घरों के साथ साथ गांव में भी स्वच्छता बनाए रखते हैं।

यहां की पंचायत का निर्णय आखिरी निर्णय होता है। यह लोग खेती के साथ दूध उत्पादन भी काफी ज्यादा तादाद में करते हैं।

इस गांव में रोज आस पास के इलाको से लोग यहां घूमने के लिए आते है, ओर यहां से हमेशा कुछ न कुछ सीखकर जाते है।

इस गांव में सिर्फ एक मुस्लिम परिवार है उनके लिए भी यहां मस्जिद बनाई गई है। आज ये आदर्श गांव हर गांव के लिए एक इंस्पिरेशन है।

यहाँ घूमने जरूर जाए-

#6. Piplantri, Rajasthan

पिपलांत्री, राजस्थान

राजस्थान के इस छोटे से पिपलांत्री गांव में एक प्रथा के चलते जब भी इस गांव में एक लड़की पैदा होती है, तो सारे गांव वाले मिलकर 111 पेड़ लगाते है।

ओर उस बच्ची की पढ़ाई लिखाई सब का खर्चा वहां के लोग आपस में जुटाते हैं, बेटी के जन्म पर सभी गांव वाले एक साथ पेड़ लगाते है, ओर इसको एक उत्सव की तरह मनाते है।

ओर किसी के मरने पर भी यहां 11 पेड़ लगाने की प्रथा है, इस प्रथा के चलते पिछले कुछ सालो में पिपलांत्री गांव में गांव के लोग सवा लाख से ज्यादा पेड़ लगा चुके है।

कुछ सालो पहले यहां गांव भी बाकी राजस्थानी गांव की तरह ही था, यहां न तो दूर-दूर तक पेड़ दिखाई देते थे, ओर न ही स्वच्छता को महत्व दिया जाता था, और पानी का लेवल भी बहुत नीचे चला गया था।

सन् 2005 में यहां के सरपंच श्याम सुंदर पालीवाल बने जिसके बाद उन्होंने इस गांव का नक्शा ही बदल दिया, आज इस गांव में सवा लाख से ज्यादा पेड़ लगाए जा चुके है, ओर लोग दूर दूर से इस गांव को देखने के लिए आते है।

आज गांव में हर तरफ आपको हरियाली देखने को मिलेगी, गांव की सुंदरता और साफ सफाई के चलते इस गांव को स्वच्छ ग्राम पंचायत का पुरुस्कार भी मिल चुका है

#7. Bekkinakeri, Karnataka

बेक्कीनाकेरी, कर्नाटक

खुले में शौच करना हमारे देश की सबसे बडी समस्या है, आज भी हमारे देश में कई सारे ऐसे गांव है, जहां के लोग घर में शौचालय होने के बावजूद खुले में शौच करने जाते है।

सरकार ने घर घर जाकर जिनके घर शौचालय नहीं बना था उनके घर शौचालय बनवाया, ओर लोगो को टीवी एड के जरिए बाहर शौच करने से जो नुकसान होता है उसके बारे में समझाया।

लेकिन लोग फिर भी बाहर ही शौच करने के लिए जाते है, बाहर शौच करने से हमारी प्रकृति को कितना नुकसान होता है, इसके बारे में लोगो को समझना बहुत जरूरी है।

आज हम बात करने वाले है कर्नाटक राज्य के एक गांव बेक्कीनाकेरी ने इस समस्या से निपटने का एक बेहतरीन रास्ता खोज निकाला है।

5 हजार जनसंख्या वाले इस गांव के लोगो ने खुले में शौच करने की प्रथा से पूरी तरह से छुटकारा पा चुके है, यहां के हर घर में आपको एक शौचालय देखने को मिलेंगे, देखिए यहां के लोगो ने अपनी आदत को किस तरह बदला।

पिछले कुछ सालो पहले के यहां के लोगो के पास घर तो थे लेकिन शौच के लिए किसी के भी घर पर शौचलय नही था सब आस पास के जंगल या खेतों में लोटा लेकर जाते थे।

गांव वालो को साफ सफाई का पाठ समझाना और शौचलय क्यों जरूरी है इसको बनाने के लिए तैयार करवाना पंचायत के लिए चुनौतीपूर्ण काम था, यहां की पंचायत के लोगों ने घर घर जाकर लोगों को समझाया की खुले में शौच करने के क्या नुकसान है।

कई सारे लोगो ने अपने घरों में शौचलय का निर्माण करवाया, लेकिन कई सारे लोग अब भी खुले में ही शौच के लिए जाते थे, इस समस्या से निपटने के लिए वहां की पंचायत ने फैसला लिया की जो भी सुबह लोटा लेकर जाते हुए दिखे उनका सम्मान करें और उनके साथ नमस्कार या गुड मॉर्निंग करें ताकि वे शर्म के कारण खुले में शौच करना बंद कर दे और शायद उनकी यह आदत छूट जाए।

ओर फिर वहां की पंचायत के लोगो ने ये काम करना शुरू किया जो भी उनको सुबह लोटा लेकर जाते हुआ दिखता वो उन्हें गुड मॉर्निंग कहकर चले जाते, कुछ दिनों बाद लोगों ने अपने आप खुले में शौच करना बंद कर दिया, और आज इस गांव में कोई भी व्यक्ति खुले में शौच करने नही जाता है। ओर गांव में साफ सफाई पर भी बहुत ध्यान दिया जाता है।

आपकी पसंद के अनुसार-

#8. Odanthurai, Tamil Nadu, Developed Village Of India

ओडंथुराई, तमिलनाडु

ओडंथुराई गांव तमिलनाडु के कोयंबटूर जिले में स्थित है, आज से 20 साल पहले यहां गांव बहुत गरीबी में जी रहा था।

पहले यहां का बिजली का बिल इतना आता था, की एक किसान तो बिजली का बिल भर ही नही पाता था, फिर यहां के सरपंच और षणमुगम को किसी ने बायो गैस प्लांट के बारे में बताया।

जिसके बाद षणमुगम ने गुजरात के बड़ोदरा से बायो प्लांट की ट्रेनिग ली और सन् 2003 में गांव में पहला बायो गैस प्लांट लगाया गया।

जिसके बाद बिजली का बिल लगभग आधा हो गया, लेकिन षणमुगम को तो पूरे गांव की बिजली को फ्री करवाना था, उन्होंने गांव में पवन चक्की को लगाने के बारे में सोचा, उन्होंने पंचायत के नाम पर बैंक से लोन लेकर गांव में पवन चक्की का निर्माण करवाया।

आज गांव को फ्री बिजली तो मिल ही रही है, उसके साथ ये गांव तमिलनाडु बिजली बोर्ड को 20 लाख रुपय सालना बिजली बेच रहा है। और आज गांव भारत के सबसे स्मार्ट गांव में से एक है।

आज यह भारत का 100 प्रतिशत शोंचलाय वाला गांव है, यहां 100 प्रतिशत टैक्स देने वाला गांव है, यहां आपको हर घर में सोलर पैनल देखने को मिलेंगे।

यहां पर आपको अच्छे रोड दिखाई देंगे, यह आज भारत का एक मात्र ऐसा गांव है जो देश को बिजली बेचता है, इस गांव का आज अपना एक पवन चक्की प्लांट है।

#9. Barwan Kala, Village Of Bachelors

बरवान काला

बिहार के कैमूर जिले के अधौरा तहसील में स्थित यह गांव बरवान काला इस गांव में बताया जाता है की पिछले 50 सालो से यहां रहने वाले लोगो ने एक भी शादी होते हुए नहीं देखी है।

यहां पिछले 50 सालो से एक भी व्यक्ति की शादी नहीं हुई है, यहां के अविवाहित व्यक्ती की संख्या 135 से भी ज्यादा है, इसका मुख्य कारण है यहां की गरीबी।

यहां का विकास न होना, यहां लोगो के न तो पक्के घर है, न गांव में पीने के पानी की सुविधा है, न पक्की सड़कें है, न ही पर्याप्त बिजली है, न ही यहां मोबाइल के नेटवर्क मिलते है।

यहां के लोग पेड़ो पर चढ़कर दिनभर नेटवर्क का इंतजार करते है, शहर जाने के लिए इस गांव में न तो बस सेवा है, न ही रेलवे सुविधा।

यहां गांव पिछड़ा होने की वजह से जो भी लड़की वाले इस गांव में रिश्ता लेकर आते है, इस गांव की हालत देखकर कोई पिता अपनी बेटी का रिश्ता यहां नही करता है, इसी वजह से इस गांव को कुंवारों का गांव भी कहते है।

#10. Dharnai Bihar, Solar Powered Village

दरनाई बिहार

बिहार के इस गांव में सन् 2014 के पहले तक बिजली का मानो नमो निशान तक नही था, बिजली न होने की वजह से यहां के लोग 6 बजे से पहले, अंधेरा होने से पहले अपने अपने घरों में चले जाते थे।

घर की महिलाएं भी अंधेरा होने से पहले खाना बना लेती थी, बिजली के कारण बच्चो की पढ़ाई पर भी गहरा असर होता था, बिजली इस गांव की सबसे बड़ी समस्या थी।

परंतु आज ये गांव भारत का एकमात्र ऐसा गांव है जो पूरी तरह से सौर उर्जा पर आश्रित है, यहां के लोगो ने एक एनजीओ से मदद लेकर अपने गांव में बिजली उत्पन्न कर दिखाई, आज पूरे गांव में सौर ऊर्जा से ही बिजली पैदा होती है।

FAQs

विश्व का सबसे सुन्दर गाँव कोनसा है?
मावल्यान्नॉंग गांव शिलांग

भारत में कुल कितने गाँव है?
भारत में कुल 6,28,२२१ गाँव है

भारत का सबसे स्वच्छ गाँव कोनसा है?
मोलिनोंग, मेघालय, एशिया का सबसे स्वच्छ गाँव है

भारत का सबसे आदर्श गाँव कोनसा है?
पुंसारी, गुजरात, आदर्श गांव माना जाता है

भारत का सबसे बड़ा गाँव कोनसा है?
गहमर, उत्तरप्रदेश, भारत का सबसे बड़ा गांव है

भारत का सबसे छोटा गाँव कोनसा है?
भारत का सबसे छोटा गाँव मनसापुर है

विश्व में सबसे छोटा गाँव कोनसा है?
वेटिकन सिटी, विश्व का सबसे छोटा गाँव है

भारत का सबसे अमीर गाँव कोनसा है?
धर्मज गाँव को भारत का सबसे बड़ा गाँव माना जाता है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here